ISRO


आज सुबह साढे पांच बजे इसरो ने पीएसएलवी-सी46 को उसके 48वें मिशन पर सुबह श्रीहरिकोटा के सतीश धवन अंतरिक्ष केन्द्र से लॉन्च किया गया। पीएसएलपी46 ने आरआईसैट-2बी को लो अर्थ ऑर्बिट में सफलता के साथ स्थापित किया।

भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) ने श्रीहरिकोटा से प्रक्षेपण यान पीएसएलवी-सी46 के साथ भारत के हर मौसम में रडार इमेजिंग पृथ्वी निगरानी उपग्रह ‘आरआईसैट-2बी’ का सफल प्रक्षेपण किया। यह प्रक्षेपण बुधवार सुबह साढ़े 5 बजे किया गया। इसरो ने बताया कि पीएसएलपी46 ने आरआईसैट-2बी को पृथ्वी की निचली कक्षा (लो अर्थ ऑर्बिट) में सफलतापूर्वक स्थापित किया।

इस उपग्रह का भार 615 किलोग्राम है और इसे प्रक्षेपण के करीब 15 मिनट बाद पृथ्वी की निचली कक्षा में छोड़ा गया। यह सैटेलाइट खुफिया निगरानी, कृषि, वन और आपदा प्रबंधन सहयोग जैसे क्षेत्रों में मदद करेगा।

इसरो प्रमुख के शिवन ने सैटलाइट की सफल लॉन्चिंग पर खुशी जताई। उन्होंने कहा, ‘मुझे यह जानकारी देते हुए बेहद खुशी है कि पीएसएलवी46 का लॉन्च सफल रहा। यह बड़ी उपलब्धि है।’ उन्होंने इस मिशन में लगे सभी वैज्ञानिकों को बधाई दी।

उन्होंने इस मिशन को ‘बहुत बहुत महत्वपूर्ण’ बताया था। प्रक्षेपण से पहले तिरूपति के प्रसिद्ध भगवान वेंकटेश्वर मंदिर में पूजा अर्चना भी की। शिवन के मुताबिक, आरआईसैट-2बी के बाद, इसरो चंद्रयान-2 पर काम करेगा जिसका 9 से 16 जुलाई के बीच प्रक्षेपण का कार्यक्रम है। इसरो 6 सितंबर तक चंद्रयान-2 के रोवर को (चंद्रमा की सतह पर) उतारने को लेकर आशान्वित है।

Leave a Reply

You may also like