एंड्राइड पर हेकर्स कर रहे है NFC से हमला
एंड्राइड पर हेकर्स कर रहे है NFC से  हमला
एंड्राइड पर हेकर्स कर रहे है NFC से हमला

स्मार्टफोन यूजर्स के साथ जालसाजी करने के लिए हैकर्स नए-नए तरीके निकालते रहते हैं। चिंता की बात यह है कि वे इसमें कामयाब भी हो रहे हैं। जिस तरह टेक्नॉलजी अडवांस होते जा रही है, ठीक उसी तरह हैकिंग के तरीके भी हाई-टेक होते जा रहे हैं। इसी का एक ताजा उदाहरण है NFC यानी कि नियर फील्ड कम्यूनिकेशन। हालांकि, एनएफसी फीचर को ज्यादा लोग इस्तेमाल नहीं करते, लेकिन इसका यह मतलब नहीं कि इसके जरिए होने वाले मैलवेयर अटैक से बचना आसान है।

एनएफसी बीम के जरिए दो डिवाइसेज में फाइल्स, विडियो, फोटो और ऐप्स को आसानी से शेयर किया जा सकता है। हैकर्स ने इसी को अपना नया हथियार बना लिया है। अब ये हैकर एनएफसी बीमिंग की मदद से चुटकियों में आपके फोन में मैलवेयर (एक तरह का वायरस) डाल सकते हैं। यह एक बग है जो ऐंड्रॉयड 8.0 और उससे ऊपर के ओएस पर चलने वाले डिवाइसेज को अटैक करता है।

एनएफसी एक शॉर्ट रेंज हाई फ्रीक्वेंसी वायरलेस कम्यूनिरकेशन टेक्नॉलजी है जो 4 cm तक की दूरी से दो डिवाइसेज को कनेक्ट करती है। धीरे-धीरे इसका इस्तेमाल काफी बढ़ रहा है क्योंकि इसमें यूजर्स के समय की बचत होती है। एनएफसी डिवाइसेज का इस्तेमाल कॉन्टैक्टलेस पेमेंट सर्विस के लिए ज्यादा होता है।

जब भी एनएफसी के जरिए कोई ऐप सेंड किया जाता है, तो वह दूसरे डिवाइस पर अनजान सोर्स से आ रहे ऐप को इंस्टॉल करने से पहले परमिशन मांगता है। इसी साल जनवरी में कुछ रिसर्चर्स ने पाया कि ऐंड्रॉयड 8.0 में आए एक बग के कारण एनएफसी बीमिंग द्वारा भेजे जाने वाले ऐप बिना नोटिफिकेशन या वॉर्निंग दिए डिवाइस में इंस्टॉल हो जा रहे थे।

आमतौर पर गूगल यूजर्स को प्ले स्टोर के अलावा किसी दूसरे सोर्स के ऐप इंस्टॉल करने पर वॉर्निंग देता है। हालांकि, गूगल ने कुछ सर्विसेज जैसे ड्रॉपबॉक्स ऐंड्रॉयड ऐप और गूगल क्रोम को इस मामले में छूट दी हुई है ताकि वे बिना सिक्यॉरिटी नोटिफिकेशन डिवाइस में इंस्टॉल हो जाएं। इन सर्विसेज को वाइटलिस्टेड सर्विस या ऐप कहा जाता है।

ऐंड्रॉयड 8.0 में आया यह बग पिछले महीने फिक्स किया गया है। यह समस्या तब से आनी शुरू हुई जब गूगल ने एनएफसी बीमिंग फीचर को सर्टिफाइ कर दिया। ऐसे में जब भी आपके डिवाइस पर एनएफसी बीमिंग से कोई APK फाइल आती है तो वह बिना किसी वॉर्निंग और नोटिफिकेशन के इंस्टॉल हो जाती है। इसमें इस बात की काफी आशंका रहती है कि आपके फोन में कोई भी खतरनाक मैलवेयर पहुंचा सकता है।

गूगल ने इस बग को अब फिक्स कर दिया है। इसके लिए गूगल ने इस फीचर को वाइटलिस्टेड ऐप्स की सूची से बाहर कर दिया है। आपके साथ एनएफसी बीमिंग से कोई धोखाधड़ी न हो इसके लिए बेहतर होगा कि आप अपने ऐंड्रॉयड फोन पर एनएफसी और ऐंड्रॉयड बीम फीचर को बंद कर के रखें। इसके साथ ही अगर आपने अपने ऐंड्ऱॉयड डिवाइस को काफी दिनों से अपडेट नहीं किया है तो उसे तुंरत अपडेट कर लें।

Leave a Reply

You may also like